हमारी संस्कृति
क्यों मनाते हैं अक्षय तृतीया
हिंदू पर्व अक्षय तृतीया को एक पावन पर्व माना जाता है. इस मौके पर लोग घर में नए सामान या सोने के आभूषण खरीदते हैं. वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया क....
कन्या दान का महत्त्व
हिंदू धर्म में हर परंपरा का महत्व होता है। विवाह में वरमाला, फेरे, मंगलसूत्र आदि जैसी रस्में निभाई जाती हैं। लेकिन इन सबमें ए....
भगवान विष्णु के दस अवतार:- नृसिंह अवतार
भगवान विष्णु के दस अवतार:- नृसिंह अवतार
नृसिंह अवतार हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु के दस अवतारों में से चतुर्थ अवतार हैं जो वैशाख में श....
"गुरू नानक ने यज्ञोपवीत संस्कार के लिए क्यों किया मना"

अव्वल अल्लाह नूर उपाया, कुदरत के सब बंदे एक नूर ते सब जग उपज्या, कौन भले को मंदे। समानता और प्रेम का संदेश जन जन तक पहुंचाने वाले महान संत कवि गुरू....

नव वर्ष का प्रारंभ प्रतिपदा से ही क्यों?

भारतीय नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से ही माना जाता है और इसी दिन से ग्रहों, वारों, मासों और संवत्सरों का प्रारंभ गणितीय और खगोल शास....

उगादि

हिंदू नवसंवत्सर यानी चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को हम कई नामों से जानते हैं। महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा तो दक्षिण भारत में उगादि (युगादि) के ....

तुलसी - एक जीवनदायक पौधा
तुलसी का हिंदू संस्कृति में अत्यधिक धार्मिक महत्त्व है - इस रूप में तुलसी की पूजा की जाती है। तुलसी का हमारे औषधिशास्त्र से भी अत्यंत गहरा संबंध है। ल....
माथे पर तिलक लगाने का महत्व

हिंदू धर्म एक ऐसा धर्म है जो पूरी दुनिया में अपने रिवाजों और संस्कृति के लिए जाना जाता है।

हमारी संस्कृति में किसी भी पूजा-पाठ, यज्ञ, अनुष्ठा....

निर्जला एकादशी व्रत
हिंदू धर्म में एकादशी के व्रत को महत्वपूर्ण माना गया है । प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशी तिथियां होती हैं। जब मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती....
देवउठनी एकादशी आज
हिंदू मान्यता के अनुसार दिवाली के बाद आने वाली एकादशी पर देव उठ जाते हैं। इसे देवउठनी एकादशी कहते हैं। इस बार 10 और 11 नवंबर दो दिन एकादशी है। इस....
मार्गशीर्ष श्रीकृष्ण का स्वरूप
हिंदू वर्ष का नवा महीना अगहन के नाम से जाना जाता है। इसे मार्गशीर्ष भी कहते हैं। अगहन के साथ-साथ इसे मार्ग शीर्ष भी कहते है। बहुत ही कम लोग ही जा....
दक्षिणा क्यों है महत्त्वपूर्ण
दक्षिणा प्रदान करने वालों के ही आकाश में तारागण के रूप में दिव्य चमकीले चित्र हैं, दक्षिणा देने वाले ही भूलोक में सूर्य की भांति चमकते हैं, दक्षिणा दे....
आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2019 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क