हमारी संस्कृति
महाशिवरात्रि की पूजा का क्या है महत्त्व

शिवपुराण की कोटिरुद्रसंहिता में बताया गया है कि शिवरात्रि व्रत करने से व्यक्ति को भोग एवं मोक्ष दोनों ही प्राप्त होते हैं। ब्रह्मा, विष्णु तथा पार्....

कैसे करें महाशिवरात्री की पूजा

यह व्रत फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को किया जाता है । इसको प्रतिवर्ष करने से यह ‘नित्य’ और किसी कामनापूर्वक करने से ‘काम्य’ होता है । प्रतिपदादि ति....

क्यों मनाते हैं महाशिवरात्रि ?

इस व्रत की दो कथाएं है । एक का सारांश यह है कि एक बार एक धनवान मनुष्य कुसंगवश शिवरात्रि के दिन पूजन करती हुई किसी स्त्री का आभूषण चुरा लेने के....

द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अर्चा विग्रह - 5) श्री केदारेश्वर

केदारनाथ पर्वतराज हिमालय के केदार नाम श्रृंगपर अवस्थित हैं । शिखर के पूर्व अलकनंदा के सुरम्य तट पर बदरीनारायण अवस्थित हैं और पश्चिम में मंदाकि....

द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अर्चा विग्रह - 6) श्री भीमशंकर

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग मुंबई से पूर्व एवं पूना से उत्तर भीमा नदी के तट पर सह्यादिपर स्थित है । यहीं से भीमा नदी निकलती है । कहा जाता है कि भीमक ....

आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2019 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क