हमारी संस्कृति
भगवान भास्कर की आराधना का अद्भुत फल

महाराज सत्राजित का भगवान भास्कर में स्वाभाविक अनुराग था । उनके नेत्र कमल तो केवल दिन में भगवान सूर्य पर टकटकी लगाये रहते हैं, किंतु सत्राजित क....

राजा राज्यवर्धन पर भगवान सूर्य की कृपा

पूर्वकाल में दम नामक एक राजा थे, उनके पुत्र का नाम राज्यवर्धन था । वे भलीभांति पृथ्वी का पालन करते थे । उनके राष्ट्र में धन - जन प्रतिदिन बढ़ ....

सौरधर्म का वर्णन

राजा शतानीक ने पूछा - मुने ! भगवान सूर्य का माहात्म्य कीर्तिवर्धक और सभी पापों का नाशक है । मैंने भगवान सूर्यनारायण के समान लोक में किसी ....

सौरधर्म का वर्णन

राजा शतानीक ने पूछा - मुने ! भगवान सूर्य का माहात्म्य कीर्तिवर्धक और सभी पापों का नाशक है । मैंने भगवान सूर्यनारायण के समान लोक में किसी ....

क्या है शनि की क्रूर दृष्टि के पीछे की वजह !
शनैश्चर का शरीर- कान्ति इन्द्रनील मणि के समान है। इनके सिरपर स्वर्ण मुकुट गले में माला तथ शरीर पर नीले रंग के वस्त्र सुशोभित हैं। ये गिद्ध पर सवा....
आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2019 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क