हमारी संस्कृति
हिंदू धर्म की कुछ महत्वपूर्ण बातें जिसे आपको भी जानना चाहिए
• हिन्दू धर्म एक ऐसा धर्म है जो विश्व भर में सबसे बड़े धर्मों में से तीसरे स्थान पर आता है लेकिन इसी धर्म की 95 प्रतिशत जनसंख्या एक देश, एक राष्ट्र भार....
"मुश्किल कार्य को करें आसान गणपति"
एक बार भगवान शिव के मन में एक बड़े यज्ञ के अनुष्ठान का विचार आया। विचार आते ही वे शीघ्र यज्ञ प्रारंभ करने की तैयारियों में जुट गए। सारे गणों को यज्ञ अ....
"मां शैलपुत्री की क्यों होती है प्रथम पूजा"

मां दुर्गा के नौ रुपों में पहला रुप है शैलपुत्री का, नवरात्र के पहले दिन घट स्थापना के साथ देवी के इसी रुप की पूजा की जाती है । मां का यह रुप सौम्य....

"मां शैलपुत्री की क्यों होती है प्रथम पूजा"

मां दुर्गा के नौ रुपों में पहला रुप है शैलपुत्री का, नवरात्र के पहले दिन घट स्थापना के साथ देवी के इसी रुप की पूजा की जाती है । मां का यह रुप सौम्य....

"देवी सरस्वती के हाथ में क्यों होती है वीणा"

हिन्दू धर्म में सभी देवी-देवताओं को विशिष्ट स्थानों से नवाजा गया है। इसी कड़ी में अगर देवी सरस्वती की बात करें तो उन्हें ज्ञान, पवित्रता और बुद्धि क....

"देवी भगवती का रुप देख कर, क्यों महादेव घबरा गए"

देवी पुराण के अनुसार जब सती के पिता दक्ष प्रजापति ने यज्ञ का आयोजन किया तो उसमें अपनी पुत्री सती और दामाद भगवान शिव को निमंत्रित नहीं किया। यज्ञ के....

"क्यों लेना पड़ा मां दुर्गा को भ्रामरी देवी का अवतार"

अरुण नामक दैत्य ने कठोर नियमों का पालन कर भगवान ब्रह्मा की घोर तपस्या की। तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मदेव प्रकट हुए और अरुण से वर मांगने को कहा। अरुण ....

"क्यों मनाई जाती है वसंत पंचमी"

"क्यों मनाई जाती है वसंत पंचमी" 

बसंत पंचमी की कथा इस पृथ्वी के आरंभ काल से जुड़ी हुई है। भगवान विष्णु के कहने पर ब्रह्मा ने इस सृष्टि....

"भगवान शिव और असावरी देवी का क्या था रिश्ता?"

भगवान शिव की पत्नी और बच्चों के बारे में सभी जानते हैं लेकिन क्या आपको ये पता है कि शिवजी की एक बहन भी थी। एक पौराणिक कथा के अनुसार जब देवी पार्वती....

नवरात्रि की प्रथम देवी - शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी : मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥

मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।....

नौ देवी नौ रहस्य:- मां कात्यायनी

कात्यायनी महामाये महायोगिन्य धीश्वरी.

नंद गोप सुतं देवी पतिं मे कुरुते नम:

नवरात्रि के छठे दि‍न देवी के जिस रूप का पूजन होता है....

देवी षष्ठी की कथा
देवी षष्ठी की कथा

प्रियव्रत नाम से प्रसिद्ध एक राजा हो चुके हैं । उनके पिता का नाम था स्वायम्भुव मनु । प्रियव्रत योगिराज होने के कारण विवाह कर....

नवरात्र में कलश स्थापना (प्रतिपदा)
चैत्र के नवरात्र में शक्ति की उपासना तो प्रसिद्ध ही है, साथ ही शक्तिधर की उपासना भी की जाती है । उदाहरणार्थ एक ओर देवीभागवत, कालिकापुराण, मार्कण्डेयपु....
नवरात्र में क्यों करें घटस्थापन ?

किसी भी पूजन कार्यक्रम में घटस्थापना की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । घटस्थापना के बिना किसी भी पूजन कार्यक्रम को सफल नहीं किया जा सकता है । आइय....

नवरात्र व्रत की कथा

प्राचीन काल में एक सुरथ नाम का राजा हुआ करता था । उसके राज्य पर एक बार शत्रुओं ने चढ़ाई कर दी । मंत्री गण भी राजा के साथ विश्वासघात करके शत्रु....

नवरात्र व्रत की कथा

प्राचीन काल में एक सुरथ नाम का राजा हुआ करता था । उसके राज्य पर एक बार शत्रुओं ने चढ़ाई कर दी । मंत्री गण भी राजा के साथ विश्वासघात करके शत्रु....

श्रीदुर्गासप्तशती के आदिचरित्र का माहात्म्य

ऋषियों ने पूछा - सूतजी महाराज ! अब आप हमलोगों को यह बतलाने की कृपा करें कि किस स्तोत्र के पाठ करने से वेदों के पाठ करने का फल प्राप्त होत....

शिक्षाप्रद कहानियां- आत्म संतोष का गुण‬
‎एक गांव में एक गरीब आदमी रहता था। वह बहुत मेहनत करता, किंतु फिर भी वह धन न कमा पाता। इस प्रकार उसके दिन बड़ी मुश्किल से बीत रहे थे। कई बार तो ऐसा हो ज....
गणेश संकष्ट चतुर्थी व्रत‬
सभी महीनों की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी गणेश संकष्ट चतुर्थी कहलाती है। इसे वक्रतुंडी चतुर्थी, माही चौथ, तिल अथवा तिलकूट चतुर्थी व्रत भी कहते हैं। मंगलमूर्....
गणेश जी को दूर्वा(दूब) क्यों चढ़ाई जाती है ?
पौराणिक मान्यता के अनुसार प्राचीन काल में अनलासुर नाम का एक दैत्य था। इस दैत्य के कोप से स्वर्ग और धरती पर त्राही-त्राही मची हुई थी। अनलासुर ऋषि-....
मनचाहे वर के लिए करें हरियाली तीज का व्रत
सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहीं कज्जली तीज तो कहीं हरियाली तीज के नाम से जाना जाता है। भव‌िष्य पुराण में देवी पार्वती बताती हैं क....
योगमाया की भविष्यवाणी
इस बार मेरे काल ने जन्म लिया है यह सोचकर कंस घबराया हुआ था। उसने बंदीगृह में पहुंचते ही चिल्लाकर कहा- देवकी कहां है वह बालक? मै अभी अपनी तलवार से काटक....
नवरात्र का चौथा दिन मां कूष्मांडा देवी
नवरात्र के चौथे दिन कूष्मांडा देवी की पूजा होती है। अपनी मन्द हंसी से अण्ड अर्थात ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारंण इन्हें कूष्माण्डा देवी के नाम से....
शाकंभरी अवतार
शारदीय नवरात्रि का पर्व चल रहा है। इस पर्व में मुख्य रूप से देवी भगवती की उपासना की जाती है। देवी भगवती ने असुरों का वध करने के लिए कई अवतार लिए। ....
तो इसलिए पूजनीय है शमी वृक्ष
शमी वृक्ष के पूजन को लेकर कई कहानियां प्रचलित हैं। लेकिन शमी वृक्ष के पूजन के पीछे एक वजह यह है भी बताते हैं कि महाभारत के युद्ध में पांडवों ने इसी वृ....
बिल्व वृक्ष का महत्त्व जानकर हैरान हो जाएंगे आप।
भगवान शिव से जुड़े होने के कारण बेल के पेड़ या बिल्व वृक्ष का भी काफी धार्मिक महत्त्व है। कहा जाता है कि भगवान शिव को बिल्वपत्र चढ़ाने से वे प्रसन्न ह....
सरस्वती को वाणी की देवी क्यों कहते हैं?
बसंत पंचमी पर्व का ज्ञान की देवी मां सरस्वती से संबंधित है। मां सरस्वती बुद्धि, ज्ञान व संगीत की देवी हैं। इस दिन को माता सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप ....
वसंत पंचमी के दिन क्यों होती हैं विद्या की देवी की पूजा ?

वसंत पंचमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू त्योहार है । इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है । सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की ....

भजन
© 2019 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क