हमारी संस्कृति
Skip Navigation Linksहोम > हमारी संस्कृति
|मां के 51 शक्तिपीठों की एक पौराणिक कथा

मां के 51 शक्तिपीठों की एक पौराणिक कथा के अनुसार राजा प्रजापति दक्ष की पुत्री के रूप मं  माता दुर्गा ने सती के रूप में जन्म लिया था और भगवान शिव से उनका विवाह हुआ था। एक बार मुनियों के एक समूह ने यज्ञ आयोजित किया। यज्ञ में सभी देवताओं को बुलाया गया था। जब राजा दक्ष आए तो सभी लोग खड़े हो गए लेकिन भगवान शिव खड़े नहीं हुए। भगवान शिव दक्ष के दामाद थे।
यह देख कर राजा दक्ष बेहद क्रोधित हुए। अपने इस अपमान का बदला लेने के लिए सती के पिता राजा प्रजापति दक्ष ने भी एक यज्ञ का आयोजन किया। उस यज्ञ में ब्रह्मा, विष्णु, इंद्र और अन्य देवी-देवताओं को आमंत्रित किया, लेकिन उन्होंने जान-बूझकर अपने जमाता भगवान शिव को इस यज्ञ का निमंत्रण नहीं भेजा। भगवान शिव इस यज्ञ में शामिल नहीं हुए और जब नारद जी से सती को पता चला कि उनके पिता के यहां यज्ञ हो रहा है लेकिन उन्हें निमंत्रित नहीं किया गया है। यह जानकर वे क्रोधित हो उठीं। नारद ने उन्हें सलाह दी कि पिता के यहां जाने के लिए बुलावे की जरूरत नहीं होती है। जब सती अपने पिता के घर जाने लगीं तब भगवान शिव ने उन्हें समझाया लेकिन वह नहीं मानी तो प्रभु ने स्वयं जाने से इंकार कर दिया।
शंकर जी के रोकने पर भी जिद कर सती यज्ञ में शामिल होने चली गई। यज्ञ-स्थल पर सती ने अपने पिता दक्ष से शंकर जी को आमंत्रित करने का कारण पूछा और पिता से उग्र विरोध प्रकट किया। इस पर दक्ष, भगवान शंकर के बारे में सती के सामने ही अपमानजनक बातें करने लगे। इस अपमान से पीड़ित सती ने यज्ञ-कुंड में कूदकर अपनी प्राणाहुति दे दी।
भगवान शंकर को जब यह पता चला तो क्रोध से उनका तीसरा नेत्र खुल गया। ब्रम्हाण्ड में प्रलय हाहाकार मच गया। शिव जी के आदेश पर वीरभद्र ने दक्ष का सिर काट दिया और अन्य देवताओं को शिव निंदा सुनने की भी सजा दी। भगवान शंकर ने यज्ञकुंड से सती के पार्थिव शरीर को निकाल कंधे पर उठा लिया और दुःखी होकर सारे भूमंडल में घूमने लगे।
भगवती सती ने शिवजी को दर्शन दिए और कहा कि जिस-जिस स्थान पर उनके शरीर के अंग अलग होकर गिरेंगे, वहां महाशक्तिपीठ का उदय होगा। सती का शव लेकर शिव पृथ्वी पर घूमते हुए तांडव भी करने लगे, जिससे पृथ्वी पर प्रलय की स्थिति उत्पन्न होने लगी। पृथ्वी समेत तीनों लोकों को व्याकुल देखकर भगवान विष्णु अपने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को खंड-खंड कर धरती पर गिराते गए। जब-जब शिव नृत्य मुद्रा में पैर पटकते, विष्णु अपने चक्र से माता के शरीर का कोई अंग काटकर उसके टुकड़े पृथ्वी पर गिरा देते।
शास्त्रों  के अनुसार इस प्रकार जहां-जहां सती के अंग के टुकड़े, उनके वस्त्र या आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्तिपीठ का उदय हुआ। इस तरह कुल 51 स्थानों में माता के शक्तिपीठों का निर्माण हुआ। अगले जन्म में सती ने राजा हिमालय के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया और घोर तपस्या कर शिव को पुन: पति रूप में प्राप्त किया।

 

टैग्स :
51 शक्तिपीठों
पौराणिक कथा
राजा प्रजापति दक्ष
बुद्धि के देवता गणेश

"महादेव के अद्भुत अवतार"

हनुमान जी से जानिए सफलता के सूत्र

| लोकप्रिय

  • परंपरा का निर्माण

  • चिकित्सकों के चिकित्सक भगवान शिव

  • गीता और वेद

  • सबसे बड़ा दान क्या है ?

  • दक्षिणा क्यों है महत्त्वपूर्ण

  • गुरु का महत्त्व क्यों ?

  • संस्कार क्या हैं ?

  • भगवान श्रीकृष्ण

  • कृष्णावतार पर वैज्ञानिक दृष्टि

  • श्रीकृष्ण अवतार

  • त्रिपुरुष - विज्ञान

  • स्वामी विवेकानंद जयंती -

  • जन्म - कर्म

  • श्रीकृष्ण की पत्नियों तथा पुत्रों के संक्षेप से नाम निर्देश तथा द्वादश - संग्रामों का संक्षिप्त परिचय

  • महात्मा की कृपा

  • संसारी - व्यवसायी में भेद

  • कर्मयोग

  • सत् - असत् का ज्ञान

  • परिवर्तन ही जीवन

  • व्यर्थ है मोह का बंधन

  • योग - वियोग

  • पैसा पाने के लिए पैसा दें

  • अपनी नियामतें (blessings) गिनें

  • प्रेम शक्ति

  • श्रीराम जी और श्रीकृष्ण जी

  • पर्वों और त्यौहारों का महत्त्व क्यों ?

  • सदाशिव - भगवान शिव के अवतार

  • भगवान कौन है ?

  • योगेश्वर श्रीकृष्ण

  • कृष्णदर्शन - भगवान शिव के अवतार

  • भैषज्य विज्ञान का मूल स्त्रोत - अथर्ववेद

  • पूजा में यंत्रों का महत्त्व क्यों ?

  • श्रीकृष्ण - चरित्र

  • भगवान शिव

  • भगवान शिव

  • जन्म और मृत्यु क्यों ?

  • आदर्श गृहस्थ

  • भगवान शिव का अवधूतेश्वरावतार

  • सुंदरकांड का धार्मिक महत्त्व क्यों ?

  • परात्पर श्रीकृष्णावतार का प्रयोजन विमर्श

  • हर - भगवान शिव के अवतार

  • श्रीराम भक्त

  • श्रीराम मर्यादा चरित्र

  • गीता के उपदेष्टा श्रीकृष्ण

  • भगवान शिव का भिक्षुवर्यावतार

  • अद्भुत अतिथि सत्कार

  • एक पत्नीव्रत धर्म

  • श्रीकृष्ण चैतन्य महाप्रभु और श्रीकृष्ण भक्ति

  • मौत की भी मौत

  • श्रीभरत जी के विशेषतर धर्म से शिक्षा

  • श्रीभरत जी के विशेषतर धर्म से शिक्षा

  • भगवान शिव का सुरेश्वरावतार

  • प्रतिशोध ठीक नहीं होता

  • कलियुग का पुनीत प्रताप

  • राधा - भाव

  • कपाली - भगवान शिव के अवतार

  • सुनीथा की कथा (अभिभावक उपेक्षा न करें)

  • श्रीहरि भक्ति सुगम और सुखदायी है

  • शिव जी का किरात वेष में प्रकट होना

  • सीता शुकी संवाद

  • श्रीकैकेयी और सुमित्रा माता के चरित्र से शिक्षा

  • भव - भगवान शिव के अवतार

  • सत्कर्म में श्रमदान का अद्भुत फल

  • भक्तों की तीन श्रेणियां

  • शिव जी का हनुमान के रूप में अवतार

  • नल दमयंती के पूर्व जन्म का वृतांत

  • व्रज जीवन का संगठन और तैयारी

  • गंगावतार - भगवान शिव के अवतार

  • गुणनिधि पर भगवान शिव की कृपा

  • कुवलाश्व के द्वारा जगत की रक्षा

  • गायत्री मंत्र की सबसे अधिक मान्यता क्यों ?

  • श्रीकृष्ण और द्रौपदी

  • श्रीकृष्ण और भावी जगत

  • भक्त का अद्भुत अवदान

  • भक्तवत्सलता

  • मन ही बंधन और मुक्ति का कारण

  • श्रीलक्ष्मण जी के विशेष धर्म से शिक्षा

  • वेदांतमत और वैष्णवमत

  • औढरदानी भगवान शिव

  • भगवन्नाम समस्त पापों को भस्म कर देता है (यमदूतों का नया अनुभव)

  • श्री शबरी जी की भक्ति

  • श्रीकृष्ण - चरण सेवन का माहात्म्य

  • सुदर्शन पर जगदंबा की कृपा

  • शिव और सती

  • लोकसंग्रह और भगवान श्रीकृष्ण

  • भगवान शिव का हरिहरात्मक रूप

  • वसंत पंचमी के दिन क्यों होती हैं विद्या की देवी की पूजा ?

  • मुनिवर गौतमद्वारा कृतघ्न ब्राह्मणों को शाप

  • लोकनायक श्रीकृष्ण

  • वेदमालि को भगवत्प्राप्ति

  • भगवान हनुमान के चरित्र से शिक्षा

  • भगवान की एक लीला

  • अर्धनारीश्वर शिव

  • सुंदरकांड का धार्मिक महत्त्व क्यों ?

  • आरोग्य - सुभाषित - मुक्तावली

  • राजा खनित्र का सद्भाव

  • राम अंश

  • एकमात्र श्रीकृष्ण ही धन्य एवं श्रेष्ठ हैं

  • पंचमुख तथा पंचमूर्ति

  • भगवान भास्कर की आराधना का अद्भुत फल

  • भगवान श्रीकृष्ण एक थे या अनेक ?

  • आदर्श भक्त

  • गणेश जी पर शनि की दृष्टि

  • छान्दोग्योपनिषद और श्रीकृष्ण

  • राजा राज्यवर्धन पर भगवान सूर्य की कृपा

  • भगवान श्रीकृष्ण और उनका दिव्य उपदेश

  • राजा रंतिदेव

  • गरुड, सुदर्शनचक्र और श्रीकृष्ण की रानियों का गर्व - भंग

  • भक्त अर्जुन और श्रीकृष्ण

  • दो मित्र भक्त

  • कर्तव्यपरायणता का अद्भुत आदर्श

  • सारथ्य

  • कर्तव्यपरायणता का अद्भुत आदर्श

  • विपुलस्वान मुनि और उनके पुत्रों की कथा

  • श्रीश्रीराधातत्त्व

  • माता, पिता एवं गुरु की महिमा

  • वेदमालिको भगवत्प्राप्ति

  • श्रीकृष्ण और भागवत धर्म

  • चक्रिक भील

  • आल्हा ऊदल की कथा

  • राजा विदूरथ की कथा

  • श्रीराधिका जी का उद्धव को उपदेश

  • श्रीराम का पत्नी प्रेम

  • देव प्रतिमा निर्माण विधि

  • इंद्र का गर्व - भंग

  • मैं तो कृष्ण हो गया !

  • पाण्डव अर्जुन और कृष्ण मैत्री

  • आंख खोलने वाली गाथा

  • मोक्ष संन्यासिनी गोपियां

  • भीष्मपितामह - आदर्श चरित्र

  • सृष्टि तथा सात ऊर्ध्