हमारी संस्कृति
सुंदरकांड का धार्मिक महत्त्व क्यों ?

सुंदर कांड वास्तव में हनुमान जी का कांड है । हनुमान जी का एक नाम सुंदर भी है । सुंदर कांड के लिए कहा गया है -

सुंदरे सुंदरे राम: सुंदरे सुं....

आप भी कर लें संकटमोचन को प्रसन्न
आज हनुमान जयंती है. बजरंग बली धीर-वीर परम रामभक्त हनुमान जी के भक्तों के लिए भगवान हनुमान का जन्मदिन यानी उनकी जयंती विशेष महत्त्व रखती है. इस बार हनु....
हनुमान अष्टक
बाल समय रवि भक्ष लियो, तब तिनहुं लोक भयो अंधियारो।
ताहि सो त्रास भयो जग को, यह संकट काहू सो जाता न टारो।

देवन आनी करी विनती तब, छांड़ि दियो ....
अर्जुन के रथ पर क्यों बैठे थे हनुमान?
महाभारत के अनुसार, जब कौरव सेना का नाश हो गया तो दुर्योधन भाग कर एक तालाब में छिप गया। पांडवों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने दुर्योधन को युद्ध क....
हनुमानजी के पुत्र मकरध्वज की उत्पत्ति की कथा
धर्म शास्त्रों के अनुसार जिस समय हनुमानजी सीता की खोज में लंका पहुंचे और मेघनाद द्वारा पकड़े जाने पर उन्हें रावण के दरबार में प्रस्तुत किया गया। तब रा....
"हनुमान जी ने सुनी अंजलि की पुकार"
"हनुमान जी ने सुनी अंजलि की पुकार"
ऋषिनगर में केशवदत्त ब्राह्मण अपनी पत्नी अंजलि के साथ रहता था। केशवदत्त के घर में धन-संपत्ति की कोई कमी नहीं थी। ....
"क्यों कहलातें है पंचरुपी हनुमान"

जब राम और रावण की सेना के मध्य भयंकर युद्ध चल रहा था और रावण अपने पराजय के समीप था तब इस समस्या से उबरने के लिए उसने अपने मायावी भाई अहिरावण को याद....

“जब पहली बार मिले हनुमान और भगवान राम”

एक बार हनुमान जी ऋष्यमूक पर्वत की एक बहुत ऊंची चोटी पर बैठे हुए थे। उसी समय भगवान श्रीराम चंद्र जी सीता जी की खोज करते हुए लक्ष्मण जी के साथ ऋष्यमू....

"कैसे बने हनुमान बलशाली"

शिवमहापुराण के अनुसार देवताओं और दानवों को अमृत बांटते हुए विष्णुजी के मोहिनी रूप को देखकर लीलावश शिवजी ने कामातुर होकर अपना वीर्यपात कर दिया। सप्त....

"माता सीता ने क्यों निगला लक्ष्मण को"

एक समय की बात है मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम रावण का वध करके भगवती सीता के साथ अवधपुरी वापस आ गए । अयोध्या को एक दुल्हन की तरह से सजाया गया और उत्स....

रावण की लंका की चमक को किसने किया फीका

रामायण में वर्णित लंका कांड के अनुसार हनुमान जी ने रावण की सोने की लंका में आग लगाई थी लेकिन रावण की सोने की लंका को काला किसने किया था। जब रावण ने....

"हनुमान जी ने क्यों और किससे किया विवाह ?"

हनुमानजी ने सूर्य देव को अपना गुरु बनाया था। सूर्य देव के पास 9 दिव्य विद्याएं थीं। इन सभी विद्याओं का ज्ञान बजरंग बली प्राप्त करना चाहते थे। सूर्य....

"महादेव के अद्भुत अवतार"

वीरभद्र अवतार - भगवान शिव का यह अवतार तब हुआ था, जब दक्ष के यज्ञकुंड में देवी सती ने ....

गरुड, सुदर्शनचक्र और श्रीकृष्ण की रानियों का गर्व - भंग

एक बार भगवान श्रीकृष्ण ने गरुड को यक्षराज कुबेर के सरोवर से सौगंधित कमल लाने का आदेश दिया । गरुड को यह अहंकार तो था ही कि मेरे समान बलवान तथा ....

गरुड, सुदर्शनचक्र और श्रीकृष्ण की रानियों का गर्व-भंग
एक बार भगवान श्रीकृष्ण ने गरुड को यक्षराज कुबेर के सरोवर से सौगंधिक कमल लाने का आदेश दिया। गरुड को यह अहंकार तो था ही कि मेरे समान बलवा....
भक्त हनुमान

हनुमान जी महाराज भगवान के परम भक्त थे । उनमें तीन बात विशेष थी -

1. भगवान के चरणों में रहते थे । भगवान को छोड़कर एक क्षण भी अलग न....

श्री हनुमान क्यों हुए सिंदूरी

कहा जाता है जब रावण को मारकर राम जी सीता जी को लेकर अयोध्या आए थे। तब हनुमान जी ने भी भगवान राम और माता सीता के साथ आने की जिद की। राम जी ने उन....

जाने, किस भगवान को है कौन सा पुष्प प्रिय...

श्रीगणेश

भक्ति की अद्भुत पराकाष्ठा की मिसाल भगवान हनुमान
लंका मे रावण को परास्त करने के बाद श्रीराम, माता सीता, लक्ष्मण और हनुमान के साथ अयोध्या लौट चुके थे। प्रभु राम के आने की खुशी में पूरे अयोध्या मे....
बाल समय रबि भक्षि लियो

एक बार की बात है माता अंजना हनुमान जी के कुटी में लिटाकर कहीं बा....

समुद्रोल्लंघन की तैयारी
राक्षसों के राजा रावण की राजधानी चारों ओर समुद्र से घिरी हुई थी। वहाँ का दुर्ग (किला) भी बहुत विशाल और सुदृढ़ था। उसके चारो ओर बलवान राक्षसों का पहरा ....
जानिए संकटमोचन हनुमान के जन्म की कथा


पुराणों में कथा है कि केसरी और अंजना के विवाह के बाद वह संतान सुख से वंचित थे। अंजना अपनी इस पीड़ा को लेकर मतंग ऋषि के पास गईं, तब मंतग ऋषि ने....
सुंदरकांड का धार्मिक महत्त्व क्यों ?
सुंदर कांड वास्तव में हनुमान जी का कांड है । हनुमान जी का एक नाम सुंदर भी है । सुंदर कांड के लिए कहा गया है - सुंदरे सुंदरे राम: सुंदरे सुंदरीकथा ....
शिव जी का हनुमान के रूप में अवतार
एक समय की बात है, भगवान शिव ने भस्मासुर की तपस्या से प्रसन्न होकर उसे वरदान दे दिया कि तुम जिसके सिर पर अपना हाथ रख दोगे, वह जल कर भस्म हो जायेगा । भस....
भगवान हनुमान के चरित्र से शिक्षा

सचिव कैसा होना चाहिए और उसे सचिव धर्म का पालन किस प्रकार करना चाहिए, इसका उत्तम उदाहरण श्रीहनुमान जी ने दिखाया है । महाबली वाली के दुरत्यय आघा....

आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2017 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क