हमारी संस्कृति
"भगवान विष्णु ने क्यों किया पतिव्रता वृंदा के साथ छल"
श्रीमद् भागवत पुराण के अनुसार एक बार भगवान शिव ने अपना तेज समुद्र में फेंक दिया था। जिससे जलंधर उत्पन्न हुआ। माना जाता है कि जलंधर में अपार शक्ति थी औ....
"मां शैलपुत्री की क्यों होती है प्रथम पूजा"

मां दुर्गा के नौ रुपों में पहला रुप है शैलपुत्री का, नवरात्र के पहले दिन घट स्थापना के साथ देवी के इसी रुप की पूजा की जाती है । मां का यह रुप सौम्य....

"मां शैलपुत्री की क्यों होती है प्रथम पूजा"

मां दुर्गा के नौ रुपों में पहला रुप है शैलपुत्री का, नवरात्र के पहले दिन घट स्थापना के साथ देवी के इसी रुप की पूजा की जाती है । मां का यह रुप सौम्य....

"देवी भगवती का रुप देख कर, क्यों महादेव घबरा गए"

देवी पुराण के अनुसार जब सती के पिता दक्ष प्रजापति ने यज्ञ का आयोजन किया तो उसमें अपनी पुत्री सती और दामाद भगवान शिव को निमंत्रित नहीं किया। यज्ञ के....

“भारत के वो रहस्यमयी मंदिर, जहां बढ़ रहा शिवलिंग का आकार”

महादेव के दुनियाभर में सैकड़ों मंदिर हैं। हर दिन भक्तजन शंकर के दर पर पहुंच शिव के प्रतिक शिवलिंग पर जल अर्पित करते हैं। मान्यता है कि शिवलिं....

"सुध महादेव मंदिर का रहस्य"

जम्मू से 120 किलो मीटर दूर तथा समुद्र तल से 1225 मीटर की ऊंचाई पर, पटनीटॉप के पास सुध महादेव (शुद्ध महादेव) का मंदिर स्तिथ है। यह मंदिर शिवजी के प्....

"भगवान शिव और असावरी देवी का क्या था रिश्ता?"

भगवान शिव की पत्नी और बच्चों के बारे में सभी जानते हैं लेकिन क्या आपको ये पता है कि शिवजी की एक बहन भी थी। एक पौराणिक कथा के अनुसार जब देवी पार्वती....

नवरात्रि की प्रथम देवी - शैलपुत्री

पंचमुख तथा पंचमूर्ति

‘जिन भगवान शंकर के ऊपर की ओर गजमुक्ता के समान किंचित श्वेत - पीत वर्ण, पूर्व की ओर सुवर्ण के समान पीतवर्ण, दक्षिण की ओर सजल मेघ के समान सघन नी....

द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अर्चा विग्रह - 6) श्री भीमशंकर

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग मुंबई से पूर्व एवं पूना से उत्तर भीमा नदी के तट पर सह्यादिपर स्थित है । यहीं से भीमा नदी निकलती है । कहा जाता है कि भीमक ....

श्रीशिवपंचाक्षरस्तोत्रम्
नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै न काराय नम: शिवाय।।1।।

जिनके कण्ठ में सांपों का हार है,....
भगवान विष्णु का स्वप्न
एक बार भगवान नारायण अपने वैकुंठलोक में सोये हुए थे। स्वप्न में वे क्या देखते हैं कि करोड़ों चंद्रमाओं की कांतिवाले, त्रिशूल-डमरूधारी, स्वर्णाभरण-भूषित,....
जानिए क्या है मानस-पूजा और कैसे करें भगवान शिव की मानसपूजा
शास्त्रों में पूजा को हजारगुना अधिक महत्वपूर्ण बनाने के लिए एक उपाय बतलाया गया है। वह उपाय है मानस-पूजा, जिसे पूजा से पहले करके फिर बाह्य वस्तुओं से प....
परम शैव भगवान विष्णु की शिवोपासना
समय के परिवर्तन से कभी तो देवता बलवान हो जाते हैं और कभी दानव। एक बार दानवों की शक्ति बहुत अधिक हो गयी और वे देवों को बहुत अधिक कष्ट पहुंचाने लगे। देव....
प्रदोष व्रत का महत्त्व
हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत प्रत्येक मास की दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को किया जाता है। यह व्रत कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष दोनों को किया जाता है। प्रद....
गणेश जी को दूर्वा(दूब) क्यों चढ़ाई जाती है ?
पौराणिक मान्यता के अनुसार प्राचीन काल में अनलासुर नाम का एक दैत्य था। इस दैत्य के कोप से स्वर्ग और धरती पर त्राही-त्राही मची हुई थी। अनलासुर ऋषि-....
सावन के पवित्र महीनें में जानिए शिवजी के पवित्र धामों के बारें में
सोमनाथ
हिन्दू धर्म में सोमनाथ मंदिर का अपना एक अलग ही स्थान है। सोमनाथ मंदिर को 12 ज्योतिर्लिंगों में पहला स्था....
हर - भगवान शिव के अवतार
शैवागम के अनुसार भगवान रुद्र के आठवें स्वरूप का नाम हर है । भगवान हर को सर्वभूषण कहा गया है । इसका अभिप्राय यह है कि मंगल और अमंगल सब कुछ ईश्वर - शरीर....
आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2017 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क