हमारी संस्कृति
पूजा में केले के पत्तों को क्यों महत्व दिया जाता है?
केले के पत्ते को प्राचीन समय से ही पूज्य और पवित्र माना गया है. केले के फल, तने और पत्तों को हमारे पूजा विधान में अनेक तरह उपयोग किया जाता है. इसे शुभ....
हमारी संस्कृति में यज्ञ का महत्व
भारतीय संस्कृति में पूजा-पाठ और यज्ञ का बहुत महत्व है। यज्ञ उपासना के बिना कोई भी पूजा अधूरी मानी जाती है। यज्ञ शब्द यज-धातु से सिद्ध होता है जिसका अर....
"तुलसी क्यों वर्जित हैं गणेश जी की पूजन से?"

पौराणिक काल में गणेश जी गंगा तट पर तपस्या में लीन थे। इसी कालावधि में धर्मात्मज की नवयौवना कन्या तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर....

नवरात्र के नौंवे दिन करें "मां सिद्धिदात्री" की उपासना

नवरात्र के नौवें दिन मां के नौवें स्‍वरूप सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है. मां सिद्धिदात्री सभी प्रकार की सिद्धियों की दाती हैं, इसीलिए ये सिद्....

धनतेरस: जानिए क्या है शुभ मुहूर्त ?

धनतेरस 2017 में कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाएगा। धनतेरस के दिन धन्वन्तरी देवता, माता लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर की पूजा ....

"भाई दूज - किस समय करें भाई को टिका"

हिन्दू पंचांग के अनुसार भाई दूज का त्यौहार आज मनाया जा रहा है।

भाई दूज मुहूर्त 

भाई दूज के दिन तिलक लगाने का शुभ समय दिन में 0....

सत्यभामा ने श्रीकृष्ण को क्यों तौला ?

भगवान श्रीकृष्ण की पत्नी सत्यभामा के मन में एक दिन एक विचित्र विचार आया। उन्होंने तय किया कि वह भगवान श्रीकृष्ण को अपने गहनों से तौलेंगी। श्रीकृष्ण....

नवरात्रि की प्रथम देवी - शैलपुत्री

ब्रह्मचारिणी : मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥

मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है।....

भगवान भास्कर की आराधना का अद्भुत फल

महाराज सत्राजित का भगवान भास्कर में स्वाभाविक अनुराग था । उनके नेत्र कमल तो केवल दिन में भगवान सूर्य पर टकटकी लगाये रहते हैं, किंतु सत्राजित क....

कैसे करें महाशिवरात्री की पूजा

यह व्रत फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को किया जाता है । इसको प्रतिवर्ष करने से यह ‘नित्य’ और किसी कामनापूर्वक करने से ‘काम्य’ होता है । प्रतिपदादि ति....

श्रीशिवपंचाक्षरस्तोत्रम्
नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांगरागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै न काराय नम: शिवाय।।1।।

जिनके कण्ठ में सांपों का हार है,....
जानिए क्या है मानस-पूजा और कैसे करें भगवान शिव की मानसपूजा
शास्त्रों में पूजा को हजारगुना अधिक महत्वपूर्ण बनाने के लिए एक उपाय बतलाया गया है। वह उपाय है मानस-पूजा, जिसे पूजा से पहले करके फिर बाह्य वस्तुओं से प....
नवरात्र में क्यों करें घटस्थापन ?

किसी भी पूजन कार्यक्रम में घटस्थापना की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । घटस्थापना के बिना किसी भी पूजन कार्यक्रम को सफल नहीं किया जा सकता है । आइय....

कैसे करें अक्षय तृतीया पर पूजा ताकि मिले पूरा फल
अक्षय तृतीया को आखातीज के नाम से भी जाना जाता है। आखातीज का व्रत वैशाख माह में सुदी तीज को किया जाता है।

इस दिन श्री लक्ष्मी जी सहित भगवान नारा....
क्यों प्रिय है भगवान शिव को बेलपत्र
शिव पूजा का सबसे पावन दिन है सोमवार। सभी देवों में शिव ही ऐसे देव हैं जो अपने भक्तों की भक्ति-पूजा से बहुत जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं। शिव भोले को आ....
कलश स्थापना कैसे करें ?
नवरात्रि पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्त्व है। मां दुर्गा के नौ रूपों की अराधना का पावन पर्व शुरू हो गया है। इन नौ दिन विधि-विधान से मां ....
मां दुर्गा का तीसरा स्वरूप- मां चंद्रघंटा
पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥
<....
पूजा में यंत्रों का महत्त्व क्यों ?
यंत्र का तात्पर्य चेतना अथवा सजगता को धारण करने का माध्यम या उपादान है । ये ज्यामितीय आकृतियों के होते हैं, जो त्रिभुज, अधोमुखी, त्रिभुज, वृत्त, वर्ग....
तो इसलिए पूजनीय है शमी वृक्ष
शमी वृक्ष के पूजन को लेकर कई कहानियां प्रचलित हैं। लेकिन शमी वृक्ष के पूजन के पीछे एक वजह यह है भी बताते हैं कि महाभारत के युद्ध में पांडवों ने इसी वृ....
पूजा-पाठ करने की सही तरीका
शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि पूजा-पाठ, भगवान का मनन करने से उनसे हमारा सीधा संपर्क हो जाता है। जिसके कारण उनकी कृपा हमारे ऊपर बनी रहती है और हर....
ऐसे करें गणेश जी की पूजा
मान्यता है कि श्री गणेश की पूजा का विशेष दिन है बुधवार। साथ ही, इस दिन बुध ग्रह के निमित्त भी पूजा की जाती है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह....
सरस्वती को वाणी की देवी क्यों कहते हैं?
बसंत पंचमी पर्व का ज्ञान की देवी मां सरस्वती से संबंधित है। मां सरस्वती बुद्धि, ज्ञान व संगीत की देवी हैं। इस दिन को माता सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप ....
वसंत पंचमी के दिन क्यों होती हैं विद्या की देवी की पूजा ?

वसंत पंचमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू त्योहार है । इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है । सृष्टि के प्रारंभिक काल में भगवान विष्णु की ....

आज का भजन
आज का पंचांग
आज का दर्शन
© 2017 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क