संत गुरु
Skip Navigation Linksहोम > संत-गुरु
|गोविंद देव गिरि जी महाराज

वर्तमान समय में भारतीय वैदिक संस्कृति को दुनिया में प्रसारित करने में गोविंद देव गिरि (किशोर मदन गोपाल व्यास) जी महाराज का अमूल्य योगदान है।​ महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के बेलापुर में सन् 1949 में जन्में किशोर मदन गोपाल व्यास जी ने सन् 2006 में हरिद्वार के गंगा घाट पर स्वामी सत्यमित्रानंद जी महाराज के हाथों संन्यास ग्रहण किया जिसके बाद वे स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज के नाम से जाने गए। गोविंद देव गिरि जी ने भारतीय वैदिक साहित्य का भरपूर अध्ययन किया है और इसके मुख्य बातों को दुनिया के सामने रखा है।
स्वामी विवेकानंद के विचारों से प्रभावित स्वामी गोविंद देव गिरि जी का मत है कि भारतीय वैदिक साहित्य केवल भारत के लिए ही नहीं बल्कि पूरी मानवता के लिए अमृत समान है। शायद यही कारण है कि गोविंद देव गिरि जी महाराज इस अमृत को पूरी दुनिया में बांट रहे हैं।

© 2017 Sanskar Info Pvt. Ltd.
All rights reserved | Legal Policy
कार्यक्रम विवरण | हमारे बारे में | संपर्क